स्वच्छता पर निबंध Essay on Cleanliness in Hindi (1000W)

हमने इस लेख में स्वच्छता पर निबंध (Essay on Cleanliness in Hindi) लिखा है। जिसमें हमने प्रस्तावना, स्वच्छता का अर्थ, महत्व, स्वच्छता पर गांधी जी के 10 विचार, और स्वच्छता पर 10 लाइन के बारे में लिखा है।

प्रस्तावना (स्वच्छता पर निबंध Essay on Cleanliness in Hindi)

हम स्वच्छता के बारे में लोगों से कहते हुए सुनते है कि साफ-सफाई हमारे जीवन का एक महत्वपूर्ण पहलू है। यह जीवन की प्रथम प्राथमिकता है। आईए स्वच्छता के विषय में ज्यादा जानें और एक कदम स्वच्छता की ओर बढ़ाएं।

स्वच्छता का क्या अर्थ है? What is the meaning of Cleanliness in Hindi?

स्वच्छता का अर्थ है सफाई से रहने की आदत। सफाई से रहने से शरीर स्वस्थ रहता है। स्वच्छता तन और मन दोनों की खुशी के लिए आवश्यक है। स्वच्छता लोगों की दिनचर्या में शामिल होनी चाहिए। गांधी जी ने कहा था- “स्वच्छता ही सेवा है” हमारे देश पर हमारे जीवन में स्वच्छता की बहुत जरूरत है।

स्वच्छता का महत्व Importance of Cleanliness in Hindi

सफाई का मतलब स्वच्छता से है अर्थात अस्वच्छता हमारे आसपास की वातावरण और जीवन को प्रभावित करती है। हमें व्यक्तिगत व आसपास भी सफाई रखनी चाहिए। रोगियों की बढ़ती जनसंख्या एवं अस्पतालों में साफ-सफाई को ध्यान देने की आवश्यकता इस बात को और भी स्पष्ट करती है।

प्रदूषण से बचने के लिए कचरे का प्रबंध करना चाहिए। स्वच्छता जीवन का एक महत्वपूर्ण कारक (अंग) है। स्वच्छता से तात्पर्य स्वस्थ होने की अवस्था से है। स्वच्छता एक अच्छी आदत है जो सभी के जीवन की गुणवत्ता को बढ़ाती है। 

हर सुबह जैसे ही हम उठाते हैं हमें अपने दांतों को साफ करने चाहिए। अपना चेहरा, हाथ पैर धोना चाहिए। और साथ ही स्नान भी करनी चाहिए। यह स्वस्थ रहने और शांति से जीवन जीने का सबसे अच्छा गुण है। 

सबसे महत्वपूर्ण बात माता-पिता और शिक्षकों को बचपन से ही बच्चों में इस आदत को बढ़ावा देना चाहिए, ताकि वे स्वच्छता के महत्व को समझ सके यह सार्वजनिक स्वच्छता या व्यक्तिगत स्वच्छता से संबंधित हो सकता है।

हमें स्वच्छता से कभी समझौता नहीं करनी चाहिए। यह हमारे लिए उतना ही आवश्यक है जितना कि भोजन और पानी। हम स्वच्छता को कई प्रकार से विभाजित कर सकते हैं जैसे- कपड़े की सफाई, घरों की सफाई, कार्यालय की सफाई, आसपास की सफाई, व्यक्ति की सफाई, सड़कों की सफाई, पर्यावरण की सफाई, इत्यादि। 

स्वच्छता हमें शारीरिक रूप से स्वस्थ बनाए रखता है और हमारे जीवन का उम्र को भी बढ़ाता है। स्वच्छता एक स्वस्थ और अच्छी आदत है, जो हम सभी के लिए बहुत आवश्यक है।

स्वच्छता के लिए भारत में शुरू की गई योजनाएं

प्रधानमंत्री स्वच्छ भारत अभियान

स्वच्छ भारत अभियान 2 अक्टूबर 2014 को महात्मा गांधी की 145वीं जयंती पर माननीय श्री प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा चलाया गया एक सफाई या स्वच्छता अभियान है। 

यह अभियान नई दिल्ली के राजघाट से शुरू किया गया था। यह एक राष्ट्रीय स्तर का अभियान है और भारत सरकार द्वारा चलाई जा रही है जो की शहर और गांव की सफाई के लिए आरंभ की गई है। (pmindia)

प्रधानमंत्री शौचालय योजना

स्वच्छ भारत मिशन के तहत ग्रामीणों को शौचालाय बनवाने में दिक्कत ना हो इसीलिए सरकार प्रधानमंत्री शौचालय योजना के तहत करीब ₹12000 दे रही है। इसके लिए आपको आवेदन करना होगा।

जैसे ही लिस्ट में आपका नाम आता है आपके खाते में रुपए जमा कर दिए जाते हैं या आपके घर में शौचालाय निर्माण के लिए व्यक्ति जाते हैं। इससे लोग आस पास की स्वच्छता का महत्व समझेंगे और वातावरण को स्वच्छ रखेंगे।

प्लास्टिक बंद

प्लास्टिक जिसे मानव एक वरदान की तरह समझता है दरअसल वह मानव जीवन में लगातार जहर घोल रहा है। सस्ता और सिंगल उपयोग के कारण मानव सुबह से लेकर शाम तक प्लास्टिक का उपयोग करता है। 

उपयोग के बाद उसे फेंक देता है जो वायु, जल, मिट्टी, जंतुओं, समुद्र जीवों आदि के स्वास्थ्य पर जहर की भांति प्रभाव डालती है। इसीलिए प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने 2 अक्टूबर को प्लास्टिक बंद का ऐलान किया और इसके उपयोग के प्रति कई कड़े कानून बनाए गए। यह स्वच्छता के प्रति एक अच्छा कदम था।

वृक्षारोपण

वृक्षारोपण का अर्थ है प्रकृति में वृक्ष लगाना। प्रकृति में संतुलन बनाए रखने के लिए तथा अपने आसपास के वातावरण को स्वच्छ बनाए रखने के लिए पेड़ पौधे लगाना बहुत ही आवश्यक है।

पूरे देश में शहर से लेकर गाँव तक वृक्षारोपण का कार्यक्रम चल रहा है। 

स्वच्छता को लेकर महात्मा गांधी के 10 विचार 10 Thoughts of Mahatma Gandhi on Cleanliness in Hindi

 स्वच्छता को लेकर महात्मा गांधी के निम्नलिखित विचार थे-

  1.  महात्मा गांधी जी ने कहा था कि राजनीतिक स्वतंत्रता से ज्यादा स्वच्छता है।
  2.  यदि कोई व्यक्ति स्वच्छ नहीं है तो वह स्वास्थ्य नहीं रह सकता।
  3. मैं किसी को गंदे पैर के साथ, अपने मन से, नहीं गुजरने दूँगा।
  4. नदियों को स्वच्छ रख कर हम अपनी सभ्यता को जिंदा रख सकते हैं।
  5. बेहतर साफ-सफाई से ही भारत के गांव को आदर्श बनाया जा सकता है।
  6. स्वच्छता को अपने आचरण में इस तरह से लोग कि वह अपनी आदत बन जाए।
  7. अपनी गलती को स्वीकार ना झाड़ू लगाने के समान है जो सतह को चमकदार व साफ कर देता है।
  8. हर किसी एक को अपना कूड़ा खुद साफ करना चाहिए।
  9. स्वच्छता भक्ति के बाद दूसरी महत्वपूर्ण चीज है।
  10. जब तक आप झाड़ू और बाल्टी को अपने हाथ में नहीं लेते हैं, तब तक आप अपने कस्बों को साफ नहीं कर सकते हैं।

स्वच्छता पर 10 लाइन 10 lines on Cleanliness in Hindi

  1. वातावरण स्वच्छ और सुंदर रखने के लिए साफ-सफाई जरूरी है।
  2. स्वच्छता हमारे जीवन के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है।
  3. बचपन से ही हमें अपने साफ-सफाई को आदत में लाना चाहिए।
  4. गंदगी से कई तरह की बीमारियाँ पैदा होती है जो  मानव जीवन के विकास में बाधा डालती है।
  5. स्वच्छता से ही हम बीमारियों को खत्म कर सकते हैं।
  6. हमें अपने घर के साथ ही आसपास की स्वच्छता का ध्यान रखना चाहिए।
  7. वातावरण को स्वच्छ रखने के लिए हमें पौधे लगाने चाहिए।
  8. स्वच्छता को बनाए रखने के लिए हमें इधर-उधर कचरा नहीं भेजना चाहिए। कूड़ेदान में हमेशा कचरा फेंकना चाहिए।
  9. हमारे लिए शरीर की भी स्वच्छता बहुत जरूरी है जैसे रोज नहाना, स्वच्छ कपड़े पहनना, दाँत साफ करना, नाखून काटना, आदि।
  10. कहा भी गया है स्वच्छता पर ईश्वर का वास होता है। अंततः स्वच्छता को अपनाएं और देश को आगे बढ़ाएं।

निष्कर्ष Conclusion

हम सबको मिलजुल करके अपने आसपास के वातावरण को स्वच्छ और साफ सुथरा रखना होगा तभी हमारा और हमारे देश का विकास होगा। यदि आपको हमारा यह स्वच्छता पर निबंध (Essay on Cleanliness in Hindi) अच्छा लगा हो तो हमें कमेंट करें। धन्यवाद।

पढ़ें: प्रिय बापू आप अमर हैं पत्र लेखन

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.