मेरा प्रिय खेल क्रिकेट My Favourite Game Cricket in Hindi (1000 W)

आज हम इस लेख में मेरा प्रिय खेल क्रिकेट निबंध  My favourite game Cricket in Hindi हिन्दी में लिखा है जिसमें हमने प्रस्तावना, क्रिकेट का आरंभ व विकास, क्रिकेट खेलने में लगने वाला सामान, क्रिकेट खेल के खिलाड़ी, आरंभ व अवधि, क्रिकेट का नियम, तथा क्रिकेट पर 10 लाइन के बारे में लिखा है।

मेरी खेलो मे विशेष रुचि है। पर मुझे क्रिकेट खेलना बहुत अधिक प्रिय है। जब दो देशों के बीच क्रिकेट मैच होता है तब लोग कमेंट्री सुनते है तो सारा काम काज छोड़ छाड़ कर देखने जाते है। 

क्रिकेट की लोकप्रियता इतनी अधिक है की इस खेल को देखने के लिए दर्शकों की जितनी भीड़ स्टेडियम में देखा जाता है अन्य खेलो में इतनी भीड़ नहीं होती है।

गली मुहल्ले में भी आपने छोटे बच्चों को क्रिकेट खेलते हुए देखा होगा।

प्रस्तावना (मेरा प्रिय खेल क्रिकेट My Favourite Game Cricket in Hindi)

खेलो का जीवन में एक विशिष्ठ स्थान होता है। जिस तरह से खाना पीना जीवन के लिए अनिवार्य होता है,उसी तरह हर जीवन सुखमय बनाने के लिये खेलना अनिवार्य होता है। 

खेल अनेक प्रकार के खेले जाते है।आज खुले मैदान के बहुत से खेल खेले जाते है,जैसे हॉकी, फुटबॉल, घुड़दौड़,दौड़,पोलो, कबड्डी आदि।बहुंत से खेल पूरी दुनिया में लोकप्रिय है। 

इस संसार में कई खेल है जो अपने अपने रूचि के अनुसार खेले जाते है। लेकिन कुछ खेल ऐसे भी होते है जो सबके रूचि के अनुकूल बन जाते है। 

जिन खेलो को देखने और खेलने में सबकी रूचि होती है वे संसार के लोकप्रिय खेल बन जाते है। ऐसे खेलो में क्रिकेट का महत्वपूर्ण स्थान है।

क्रिकेट का इतिहास व विकास History and Development of Cricket in Hindi

क्रिकेट खेल की पहली शुरुवात सन् 1478 ई. में फ्रांस में हुए थी। उस समय में इस खेल का रूप आज के खेल से बिल्कुल अलग था। 

भारत में भी यह खेल किसी अन्य रूप में प्रचलित था। विशेषज्ञों के अनुसार क्रिकेट का आरम्भ 600 साल पहले इंग्लैंड में हुआ था। 

क्रिकेट की जन्म भूमि इंग्लैंड को मना जाता है। यह मना जाता है की यह खेल इंग्लैंड के माध्यम से यह खेल अन्य देशों में भी फैला था। 

भारत देश में खेल क्रिकेट का आरम्भ ईस्ट इंडिया कम्पनी के माध्यम से हुआ था। क्रिकेट को सबसे पहली बार विविध रूप से सन्1848 में मुम्बई के ओरिएंटल क्लब में हुआ था। 

सबसे पहले सन् 1850 में गिल फोल्ड स्कूल में हॉकी को नियम अनुसार खेला गया था। इसके बाद ब्लैक कॉमन नामक स्थान पर क्रिकेट का पहला टेस्ट मैच खेला गया।

महाराजा पटियाला जी के नेतृत्व में एक भारतीय टीम पहली बार सन् 1911 में इंग्लैंड गई थी। 

तभी से भारतीय टीम बहुत बार विदेश जाति आ रही है और विदेशी टीमें भारत आती आ रही है। सन 1926 के करीब यह खेल अनेक देशों में फैल चुका था।

सन 1927 में भारत में राज गुरु क्रिकेट टूर्नामेंट का आरंभ हुआ और सन 1928 में भारत की टीम इंग्लैंड गई थी।

क्रिकेट खेल मे उपयोग आने वाले सामान Playing Equipment Used in Cricket Game

यह एक महँगा खेल होता है इसे खेलने के लिए बहुत महंगी सामग्री लेनी पढ़ती हैं। 

क्रिकेट खेल घर के बाहर मैदान में खेला जाता है। जिसमें पिच का बहुत अधिक महत्व है। दोनों तरफ गढ़े  हुए स्टम्प की बीच की जगह को पिच कहते हैं। 

स्टमो के बीच की दूरी 22 गज होती है। पिच के दोनों ओर लकड़ी के तीन स्टम्प गाड़े जाते हैं। 

यह स्टम्प जमीन से 28 इंच ऊंचे होते हैं । स्टम्पो के ऊपर लकड़ियों के बीच में गिल्लियाँ रखे जाते हैं। क्रिकेट में बल्ला एक महत्वपूर्ण और प्रमुख साधन होता है। 

बल्ले से भी गेंद खेली जाती है। बल्ले की लंबाई 38 इंच होती है। क्रिकेट में गेंद दूसरा महत्वपूर्ण साधन है। क्रिकेट की गेंद बहुत ही ठोस व कठोर होती है। 

ठोस गेंद से बचने के लिए हाथों में गद्देदार दस्ताने और पैरों में आगे की तरफ पैड बांधे जाते हैं । क्रिकेट खेलने वाले खिलाड़ियों के जूते सफेद रंग के तथा कैनवास के होते हैं जिसका तलवा चमड़े का होता है जिससे पैर ना फिसल सके । क्रिकेट के खिलाड़ी सफेद कमीज तथा सफेद पेंट पहनते हैं।

क्रिकेट खेल के खिलाड़ी तथा आरंभ व अवधी Type of Players and Timings in Cricket Game

खेल क्रिकेट में 2 टीम होते हैं दोनों टीमों के बीच मैच खेला जाता है। क्रिकेट को खिलाने के लिए दो निर्णायक होते हैं  जिन्हें अंपायर कहते हैं । 

प्रत्येक दल का एक एक मुखिया कप्तान होता है। जिसके नेतृत्व में उसकी टीम खेल खेलती है । प्रत्येक टीम में 11-11 खिलाड़ी होते हैं। 

हर दल में एक या दो खिलाड़ी अतिरिक्त रखे जाते हैं। क्रिकेट का खेल एक लंबी अवधि तक खेला जाता है। टेस्ट मैच प्रायः 5 दिन का होता है और अन्य साधारण मैच दो-तीन दिन के होते हैं।कभी कभी एक दिन का भी मैच खेला जाता है।

क्रिकेट का नियम Cricket Rules in Hindi

खेल क्रिकेट के दोनों अंपायर पूर्ण गति विधि पर बहुत ही बारीकी से नजर रखते हैं। उन्हीं के संकेतों पर खेल खेला जाता है। खेल शुरू होने पर अंपायर गेंदबाजों को गेंद फेंकने के लिए अनुमति देता है। 

गेंदबाज एक स्टम्प की ओर से एक ओवर फेक सकता है जिसमें छ: गेंद फेंकी जा सकती है। एक वोवर खेलने के बाद कप्तान दूसरे खिलाड़ी को बुलाता है। इस तरह से दो-तीन गेंदबाज अपना ओवर फेंकते हैं और बल्लेबाज को आउट करने की कोशिश करते हैं। 

बल्लेबाज रन बनाता है। वह फेंकी गई गेंद को जोर से हिट मारकर ज्यादा से ज्यादा दूर फेंकने की कोशिश करता है जिससे कि वह ज्यादा से ज्यादा रन बना सके। 

रन बनाने के लिए उसे अपने सामने लगे स्टम्प तक भागना रहता है। जब बल्लेबाज एक ओर से दूसरी और आता है तो उसे 1 रन कहते हैं और जब गेंद दौड़ती  हुई सीमा रेखा को पार करती है तो बल्लेबाज को 4 रन मिलते हैं, जिसे चौका कहा जाता है। 

जब गेम मैदान में बिना टकराए सीमा रेखा को पार करता है तो बल्लेबाज को 6 रन मिलते हैं जिसे छक्का कहा जाता है। बल्लेबाज को आउट करने के लिए बहुत से तरीके होते हैं- गेंद से स्टम्प या विकेट को गिरा कर वोल्ड कर देना, क्षेत्र आरक्षक वाह बल्लेबाज की तरफ से शाट की हुई गेंद को पकड़ लेना, कैच आउट होता है। 

स्टम्प या हिट विकेट से भी बल्लेबाज आउट हो जाता है। आउट होने की स्थिति को अंपायर बहुत ही बारीकी से देखते है।

क्रिकेट पर 10 लाइन 10 Lines on Cricket in Hindi

मेरे प्रिय खेल क्रिकेट पर 10 लाइन निम्न है-

  1. यह बालों का खेल क्रिकेट एक महंगा खेल होता है इसे खेलने के लिए बहुत महंगी सामग्री लेनी पढ़ती हैं।
  2. यह खेल घर के बाहर मैदान में खेला जाता है। जिसमें पिच का बहुत अधिक महत्व है।
  3. दोनों तरफ गढ़े हुए स्टम्प की बीच की जगह को पिच कहते हैं।
  4. स्टम्प के बीच की दूरी 22 गज होती है। पिच के दोनों और लकड़ी के तीन स्टम्प गाड़े जाते हैं। यह स्टम्प जमीन से 28 इंच ऊंचे होते हैं ।
  5. स्टम्पो के ऊपर लकड़ियों के बीच में बैलेंस रखे जाते हैं। क्रिकेट में बल्ला एक महत्वपूर्ण और प्रमुख साधन होता है। बल्ले से भी गेंद खेली जाती है।
  6. क्रिकेट में 2 टीम होते हैं दोनों टीमों के बीच मैच खेला जाता है। क्रिकेट को खिलाने के लिए दो निर्णायक होते हैं  जिसे  अंपायर कहते हैं । 
  7. प्रत्येक दल का एक एक मुखिया स्किपर्  अथवा  कप्तान होता है। जिसके नेतृत्व में उसकी टीम खेल खेलती है ।
  8. प्रत्येक टीम में 11-11 खिलाड़ी होते हैं। हर दल में एक या दो खिलाड़ी अतिरिक्त  रखे जाते हैं। क्रिकेट का खेल एक लंबी अवधि तक खेला जाता है।
  9. टेस्ट मैच प्रायः 5 दिन का होता है और अन्य साधारण मैच दो-तीन दिन के होते हैं।कभी कभी एक दिन का भी मैच खेला जाता है।
  10. इस खेल के दोनों अंपायर पूर्ण गतिविधि पर बहुत ही बारीकी से नजर रखते हैं। उन्हीं के संकेतों पर खेल खेला जाता है। खेल शुरू होने पर अंपायर गेंदबाजों को गेंद फेंकने के लिए अनुमति देता है।

निष्कर्ष Conclusion

क्रिकेट एक उत्साहवर्धक खेल है जिसमें जरूरत के अनुसार नए नए परिवर्तन होते रहते हैं। और आज टेस्ट मैचों की जगह पर एकदिवसीय क्रिकेट मैच अधिक लोकप्रिय बन गए हैं। क्रिकेट की अनेक विशेषताएँ होती है, खेल के भाव से खेल को खेलना, जीत हार को छोड़कर खेल की कला का आनंद लेना।

इस खेल क्रिकेट को आगे बढ़ाने के लिए हमें हमेशा प्रयत्नशील रहना चाहिए। हमारे देश के खिलाड़ियों को प्रोत्साहन देना चाहिए जिससे हमारे भारत का नाम पूरी दुनिया में  अग्रणीया हो सके। यह खेल हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत ही लाभदायक है।

यदि आपको हमारा क्रिकेट पर निबंध अच्छा लगा हो तो कमेन्ट के माध्यम से अपने विचार व्यक्त करें।

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.